शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

DIVINE MESSAGE - 22.01.10

What has science done to us? No doubt, it has added a fund of knowledge on the physical plane. But, this knowledge is mere husk when compared with the knowledge of the Self. All sciences are founded on the knowledge of Atma(self). Thanks to science and scientists who work whole-heartedly for years together in closed rooms for inventions and discoveries. They are giving comforts. But, it has made living very costly and luxurious. Man is more restless now. A luxury of today becomes want of tomorrow. The standard of living has become very high. Clerks and officers do not hesitate to tell lies and take bribes to make both ends meet.
(Swami Sivananda)
विज्ञान ने हमारे लिए क्या किया है? निस्संदेह इसने भौतिक धरात्तल पर ज्ञान के भण्डार को बढ़ाया है। परन्तु, यह ज्ञान, आत्मज्ञान की तुलना में मूल्यहीन मात्र है। सभी विज्ञान आत्मज्ञान पर आधारित हैं। हम विज्ञान और विज्ञानिकों के आभारी हैं, जो वर्षों तक बंद कमरों में बैठकर नई खोजों और अविष्कारों के लिए पूर्ण तन्मयता से कार्य करते हैं। इनसे हमें सुख-साधन प्राप्त होते हैं। लेकिन इन्होंने जीवन-यापन महंगा और विलासपूर्ण बना दिया है। मनुष्य अब अधिक विचलित है। आज की विलासिता के साधन कल की आवश्यकता बन जाते हैं। जीवन-यापन का स्तर बहुत ऊঁचा उठ गया है। कर्मचारी और अधिकारी जरुरतें पूरी करने के लिए झूठ बोलने और रिश्वत लेने से नहीं झिझकते।

5 टिप्‍पणियां:

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

जब सब यहीं छोड़ जाना है तो नोटों के लिए क्‍यों कसमसाना है ?

VIJAY ANANT ने कहा…

This is right, everything of this world has to be left here only, hence desiring for more money leads only to much worries, tension and restless.
But, it is verily true that for surviving in this world and for every aspect of life one has to run hither and thither for earning money

first ने कहा…

i am agery yuor comment

manoj kumar ने कहा…

app ki comment ney muchey bhut prabavit kiya

VIJAY ANANT ने कहा…

Rev. Manoj ji,
thanks a lot, I am really obliged,
with warm regards and love
-sevak vijay anant